वैक्सिंग या शेविंग के बाद होने वाली जलन से बचने के लिए 9 प्राकृतिक उपचार

711
READ BY
9 Natural Remedies To Avoid Burning After Waxing or Shaving
9 Natural Remedies To Avoid Burning After Waxing or Shaving
Photo Credit: Bigstockphoto
Read this article in English
यह लेख हिन्दी में पढ़ें।

एक सर्वेक्षण के मुताबिक, लगभग 58% महिलाएं बाहों और टांगों के अवांछित बालों से छुटकारा पाने के लिए वैक्सिंग की बजाय, रेजर ब्लेड इस्तेमाल करना ज्यादा पसंद करती हैं। पुरषों में यह तादात 75% तक है। लेकिन चाहे आप वैक्सिंग करें या शेविंग, दोनों के बाद आपको एक कष्टदायक जलन का सामना करना पड़ता है। इस लेख के माध्यम से, मैं आपको वैक्सिंग या शेविंग के बाद होने वाली जलन से बचने के लिए 9 प्राकृतिक उपचार बताना चाहूंगा।

1कॉर्नस्टार्च या बेबी पाउडर

[amazon_textlink asin=’B01HM6IWWW|B0049IDHMM|B074H67H5C|B00JPT9BFW’ text=’Cornstarch’ template=’Hindi-Bestofme-ProductAd-float-right’ store=’bestofmeplugin-21|bestofme-usa-20|bomcanada-20|besofme-21′ marketplace=’IN|US|CA|UK’ link_id=’fdd279ad-8505-11e8-8d15-c92f87e576ee’]

क्या आप जानते हैं कि कुछ कॉस्मेटिक्स में शुद्ध कॉर्नस्टार्च एवं बेबी पाउडर का इस्तेमाल भी होता है? आपको जानकर हैरानी होगी कि शिशुओं में डायपर की वजह से होने वाले रैशेस की समस्या के लिए इसे उत्तम इलाज माना जाता है। कॉर्नस्टार्च लगाने से तुरंत राहत मिलती है।

जब कभी आप इस परेशानी से गुजर रहें हों, तो बेबी पाउडर सबसे बढ़िया उपाय है। अगर आपके पास यह उपलब्ध नहीं है, तो आप कॉर्नस्टार्च का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। ऐसा करने के लिए, थोड़ा सा कॉर्नस्टार्च लें और उसे पानी में मिलाकर पेस्ट बना लें। फिर इस पेस्ट को प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं और 10 मिनट के बाद इसे पानी से धो दें। आपको हो रही जलन से काफी राहत मिलेगी।

जरूर पढ़ें – खूबसूरत आइब्रो के लिए कुछ घरेलु नुस्खे

2शहद

शहद को सदियों से कुछ घावों एवं त्वचा विकारों को ठीक करने के लिए व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। इसके एंटी- इंफ्लेमेटरी और एंटीमाइक्रोबायल प्रभाव को विज्ञान द्वारा भी मान्यता प्रदान है। इसका इस्तेमाल प्रभावी क्षेत्र पर बहुत ही जादुई तरीके से काम करता है। प्रभावी क्षेत्र पर शहद लगाएं और इसे 10-15 मिनट के बाद गर्म पानी से धो लें। इससे आपको बहुत मदद मिलेगी।

3तेल (जैतून का तेल, चाय का पेड़, विटामिन ई)

प्राकृतिक रूप से आवश्यक तेलों को उनकी एंटी- इंफ्लेमेटरी के गुणों के लिए जाना जाता है। ऐसी स्थिति में जैतून का तेल भी बहुत प्रभावी तरीके से काम करता है, जो कि ऐसी समस्या के लिए एक उत्कृष्ट उपाय है। चाय के पेड़ का तेल प्रभावी त्वचा पर एक जीवाणुरोधी तेल के रूप में काम करता है।

विटामिन ई तेल अपने एंटीऑक्सीडेंट गुणों के लिए प्रसिद्ध है, जो इसे विभिन्न प्रकार की त्वचा समस्याओं के लिए सबसे लोकप्रिय उपचारों में से एक बनाता है। इनमें से जो भी तेल उपलब्ध हो, उसे दिन में दो बार प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं।

ऐसा करने से पहले ध्यान रखें कि जैतून के तेल को हम सीधे प्रभावी त्वचा पर उपयोग कर सकते हैं, लेकिन लैवेंडर या चाय के पेड़ के तेल को लगाने से पहले इसे पानी में मिलाया जाना जरूरी होता है। ऐसा करने के लिए तेल की 4 से 5 बूंदों को 2 चम्मच पानी में मिलाकर ही त्वचा पर लगाएं।

4ठंडा संपीड़न

ठंडे संपीड़न जलन का सबसे बढ़िया इलाज है। एक अध्ययन से पता चला है कि ऐसा करने से त्वचा का तापमान कम होता है, जिससे तंत्रिका गतिविधि कम हो जाती है। इसलिए एक ठंडा संपीड़न खुजली और जलन से तुरंत राहत देता है। ऐसा करने के लिए आप कुछ बर्फ क्यूब्स किसी कपड़े में लपेटकर कुछ मिनटों के लिए प्रभावित क्षेत्र पर लगा सकते हैं। ऐसे में, आप गीले तौलिये का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

जरूर पढ़ें – सौंदर्य रहस्य – 10 उपाय कटे-फटे होंठों को ठीक करने के लिए

5वेसिलीन

यदि आप अक्सर शेविंग मशीन या रेजर का उपयोग करते हैं, तो इस्तेमाल के तुरंत बाद त्वचा की प्राकृतिक नमी के संतुलन को बनाए रखने के लिए वैसलीन का उपयोग भी कर सकते हैं। जलन की स्थिति में, प्रभावित क्षेत्र पर वैसलीन लगाएं और कम से कम 10-15 मिनट तक इसे लगी रहने दें। फिर गीले तौलिये का उपयोग करके इसे साफ कर लें।

6एप्पल साइडर विनेगर (सेब का सिरका)

एप्पल साइडर सिरका एक एंटीमाइक्रोबायल एजेंट के रूप में कार्य करता है जो रोगाणुओं और बैक्टीरिया को मारता है और सूजन को कम करने में मदद करता है। इसकी एसिड सामग्री त्वचा के पी.एच को कम करती है, जिससे त्वचा चिकनी और कम लाल हो जाती है।

प्रभावित क्षेत्र में इसे लगाने से पहले इसमें थोड़ा पानी डालकर इसे थोड़ा पतला कर लें। फिर रुई की मदद से इसे प्रभावी क्षेत्र पर लगाएं और इसे कुछ मिनटों के लिए सूखने दें। 10 से 15 मिनट के बाद इसे पानी से धो लें।

7जई अर्थात ओट्स

जई अर्थात ओट्स एवेनेंट्रामैड्स में समृद्ध होते हैं। अध्ययनों से पता चला है कि ओट्स में एंटीप्रोलिफेरेटिव और खुजली विरोधी गुण भी होते हैं, जो त्वचा की जलन से निपटने में आपकी मदद कर सकते हैं। मिश्रण प्राप्त करने के लिए थोड़े से ओट्स में साधारण दही मिला लें। इससे बने पेस्ट को प्रभावी त्वचा पर लगाएं। 30 मिनट के लिए इसे सूखने दें और फिर गर्म पानी से धो लें।

जरूर पढ़ें – मजबूत, लंबे और काले बालों के लिए क्या किया जाए

8एलो-वेरा

विभिन्न प्रकार की त्वचा समस्याओं का इलाज करने के लिए सबसे लोकप्रिय और भरोसेमंद उपचारों में से एक है एलो-वेरा। एलो-वेरा के कई फायदे हैं। यह एक उत्कृष्ट मॉइस्चराइज़र और एक जीवाणुरोधी एजेंट है जो प्रभावी त्वचा की जलन से राहत प्रदान करता है। इस्तेमाल के लिए, एलो-वेरा की पत्ती में जेल की तरह के पदार्थ को निकालें और त्वचा पर धीरे-धीरे लगाएं। कुछ देर इसे सूखने दें और फिर इसे गर्म पानी से धो दें।

9खीरा

बहुत सारे विटामिन और खनिजों के अलावा, खीरा भी त्वचा की जलन जैसी समस्याओं के लिए एक बहुत बढ़िया इलाज है। इसका लगभग पूरी तरह से पानी से बना होना ही, इसे एक प्राकृतिक मॉइस्चराइज़र बनाता है। अध्ययनों से पता चलता है कि अगर प्रभावित क्षेत्र पर खीरा काट कर सीधे रूप से लगाया जाए, तो बहुत फायदा मिलता है

क्या इस विषय में आपका कोई प्रश्न हैं ? हमारे विशेषज्ञ से ज़रूर पूंछे।

त्वचा पर ताजा कटा हुआ खीरा लगाएं और इसे 15 मिनट तक ऐसे ही रहने दें। बेहतर परिणामों के लिए खीरा इस्तेमाल करने से पहले फ्रिज में कुछ समय के लिए रखकर ठंडा कर लें।

त्वचा पर ताजा कटा हुआ खीरा लगाएं और इसे 15 मिनट तक ऐसे ही रहने दें। बेहतर परिणामों के लिए खीरा इस्तेमाल करने से पहले फ्रिज में कुछ समय के लिए रखकर ठंडा कर लें।

Loading...