कामयाब और खुशहाल ज़िन्दगी जीने का तरीका

1694
READ BY
Proven ways to live a happy and successful life
Photo Credit: Bigstockphoto.com
Read this article in English
यह लेख हिन्दी में पढ़ें।
Kumar Sunil

Kumar Sunil

Dreamer & Enthusiast

Creative. One word says it all for Sunil. A engineer, an enthusiastic and conscientious Information Technology consultant by profession, Sunil shares a special interest with entrepreneurship and lifestyle.

मुख्य आकर्षण

  1. सुबह का आनंद लें।
  2. नकारात्मक लोगों से दुरी बना के रखें।
  3. प्रमुख लक्ष्य को छोटे-छोटे लक्ष्यों में बाँट लें ।
  4. अनसुलझी समस्याओं को समय रहते हल करें।

मुझे नहीं पता, मेरे इस दुनिया से जाने के बाद, मेरे बारे में कितने लोग बात करेंगे। इसकी दो ही संभावनाएं हैं, या तो लोग मेरे जाने के बाद भी मेरे बारे में बातें करेंगे या फिर मुझे भूल कर अपनी ज़िन्दगी में व्यस्त हो जाएंगे। लेकिन, मैं चाहता हूँ कि जब कभी भी, कोई भी, मेरे बारे में बात करें, तो अच्छी ही करे।

इस बात में कोई दो राय नहीं है कि हम सभी एक कामयाब और खुशहाल ज़िन्दगी जीना चाहते हैं। लेकिन, बहुत से लोग खुशहाल और कामयाब ज़िन्दगी जीने के रहस्य को जान ही नहीं पाते। बहुत से लोग ऐसा कर पाने में विफल हो जाते हैं क्योंकि वह अपनी ज़िन्दगी की परीक्षा में दूसरों के उत्तरों की नक़ल करते हैं। दुर्भाग्यवश, वह यह जानने की कोशिश भी नहीं करते कि उनको ज़िन्दगी द्वारा प्रश्न कौन से पूछें गए थे और वह किस क्षेत्र में सक्षम थे। आपको समझना होगा कि अगर आप इस प्रतिस्पर्धा में जीतना चाहते हैं, तो किसी की नकल करने की बजाए, खुद के तरीके बनाएं और उन पर काम करें। इस लेख में, मैं आपको कामयाब और खुशहाल ज़िन्दगी जीने के रहस्यों के बारे में बताऊंगा।

1सुबह से प्यार करें

बहुत से लोग सुबह गुड मॉर्निंग कहना पसंद करते हैं। इसके विपरीत, हैप्पी मॉर्निंग कहना चाहिए। कहने का तात्पर्य यह है कि अगर आपकी सुबह खुशहाल शुरू होगी, तो अच्छी तो अपने आप बन जाएगी। सुबह का समय खुशनुमा होना, बहुत जरूरी होता है। इसलिए सुबह के समय सिर्फ अच्छे ख्यालों पर चर्चा करें। बेकार की बहस और वाद-विवाद से बचें। अपने दिमाग को ठंडा रखें।

जरूर पढ़ें – अमीरों की 7 मनोवैज्ञानिक तकनीकों के बारे में

अपने दिन की शुरुआत उस चीज़ से करें ,जो आपको बेहद ख़ुशी देती हो। फिर चाहे वह पागलों की तरह नाचना ही क्यों न हो।

एक बार पूरी तरह से सुबह के लिए तैयार होने पर, अपनी दिनचर्या को बना लें। खुद को हर रोज़ एक लक्ष्य दें और दिन के ख़त्म होने के बाद देखें कि क्या आपने वह लक्ष्य प्राप्त किया या नहीं। सबसे महत्वपूर्ण, कभी भी विटामिन से समृद्ध स्वस्थ नाश्ता करना न भूलें और यदि आपके पास समय है, तो एक छोटी सी कसरत अवश्य करें।

2आभारी होना

यह एक कड़वी सचाई है, लेकिन हम लोग एहसान फरामोश होते जा रहें हैं। निर्विवाद रूप से, यह दुखी और निराश आत्माओं के पीछे अन्य कारणों में से एक है। आपके साथ होने वाली चीजों के लिए आभारी रहना – चाहे अच्छा या बुरा हो दोनों ही मामलों में, आपने कुछ सीखा है “यहां तक कि एक टूटी हुई घड़ी दिन में दो बार सही होती है।” स्पष्टीकरण सरल है: कृतज्ञता से आप अपने जीवन की घटनाओं को अधिक शांति से देख सकते हैं और इसका आनंद उठा सकते हैं। इसके अलावा, उन चीजों की एक सूची बनाने का प्रयास करें, जिनके लिए आपको धन्यवाद करना चाहिए था, परन्तु आपने किया नहीं। ऐसे करने के बाद आप देखेंगे कि आपके पास खुश होने के कितने कारण हैं।

3यथार्थवादी और अपने प्रमुख लक्ष्य को समय के अनुसार हिस्सों में बांटना सीखें

भविष्य अप्रत्याशित है और भविष्यवाणी करने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि आप अपने भविष्य के निर्माता खुद बनें। लम्बे समय के लिए योजनाएं बनाने का क्या फायदा है, जब हमें अगले क्षण का कोई भरोसा नहीं है। इसलिए, बेहतर यह रहता है कि अपने लक्ष्य की ओर धीर-धीरे बढ़ें अर्थात मुख्य लक्ष्य को छोटे-छोटे हिस्सों में बाँट लें।

जरूर पढ़ें10 चीज़े जो जितनी जल्दी हो सके शुरू कर देनी चाहिए

ऐसे लक्ष्य बनाना, जिनको हासिल करने में सालों-साल लग जाते हैं, का कोई फायदा नहीं होता। ऐसे लक्ष्य सिर्फ निराशा देते हैं।

इसलिए यथार्थवादी लक्ष्यों को निर्धारित करना बहुत महत्वपूर्ण होता है। रोज एक नया लक्ष्य बनाएं, हर महीने के लिए एक लक्ष्य बनाएं, जो आपको प्रमुख लक्ष्य की ओर कदम-कदम बढ़ाता रहे। लेकिन, सबसे जरूरी है, असलियत में जिएं और यथार्थवादी लक्ष्य बनाएं।

4तनावग्रस्त लोगों से बचें

यदि आपके आसपास के लोग अपने तनाव या नकारात्मक भावनाओं को नियंत्रित करने में असमर्थ हैं, और आपके पास उनकी इस समस्या का कोई हल नहीं है, तो बेहतर है, आप खुद को उनसे अलग कर लें।

आपको अपने जीवन का आनंद लेने का पूरा हक है और आपको इस बात का भी ध्यान रखना है कि कोई आपकी ख़ुशी को भंग न करे। दुखी लोगों के बारे में परेशान होना बंद करो। ऐसा करना आपको स्वार्थी नहीं बनाता, आप चाहें तो उनकी मदद कर सकते हैं, लेकिन अपनी ख़ुशी की कीमत पर नहीं।

5नकारात्मक भावनाओं पर ऊर्जा बर्बाद न करें

ईर्ष्या, बेचैनी , भय, क्रोध – सभी ऐसी स्थितियां हैं, जो ऊर्जा का विनाश करती हैं। याद रखें, अगर आप इसी ऊर्जा को सही जगह पर लगाएंगे, तो आप कई महत्वपूर्ण लक्ष्यों को हासिल कर पाएंगे।

जरूर पढ़ेंवास्तविक जीवन में सफलता की कहानी – जब आप ना कहना चाहते हों, तो ना ही कहें

जब आपको लगता है कि आप किसी ऐसे स्थान पर हैं, जहाँ आप इन भावनाओं में डूब रहे हैं, तो उस स्थान को छोड़ देने में ही भलाई होती है। छोड़ने के बाद यह सोचने का प्रयास करें कि आपने ऐसा क्या किया था, जिस वजह से आप उस स्थिति में फंसे।

हालांकि, ऐसा करने पर आप पूरी तरह से सुखद महसूस नहीं करेंगे, लेकिन आप खुद को थोड़ा सहज महसूस अवश्य करेंगे।

6ज्यादा पानी पियो

मुझे नहीं लगता कि पानी पीने के महत्व के बारे में, मुझे कुछ बताना पड़ेगा। हम सब जानते हैं कि शरीर के लिए सबसे आवश्यक तत्व पानी है। खैर, इसकी कमी थकान, भटके हुए ध्यान, सिरदर्द और अन्य चीजें को जन्म देती है। यह सब चीज़े आपकी दक्षता को भारी नुकसान पहुंचाती हैं। इसलिए, जितना हो सके, उतना पानी पीयें।

7चीजें हैं जो आपको प्रेरित करती हैं ध्यान दें

उन चीजों पर ध्यान रखना बहुत महत्वपूर्ण है जो आपको प्रेरणा देती हैं। यह कुछ भी हो सकती हैं, जैसे कि किसी महान शख्सियत के साथ खींची गई फोटो इत्यादि। यह चीजें आपके मनोबल और आत्मसम्मान को एक नई ऊर्जा प्रदान करती रहती हैं। इनको बार-बार देखने से आप अपने लक्ष्य के बारे में अधिक केंद्रित और प्रयत्नशील रहते हैं।

जरूर पढ़े – अस्वीकृति से निपटना और ज़िन्दगी में आगे बढ़ना

8अधिक मुस्कान

आपको अपने आसपास की सभी नकारात्मक ऊर्जा से छुटकारा पाना होगा। ये नकारात्मक तरंगें आपकी खुशी को चूस सकती हैं और आपको जिन्दगी का आनंद नहीं लेने देती।

इस समस्या का सबसे अच्छा संभव समाधान है – हमेशा मुस्कुराएं क्योंकि एक खुशनुमा चेहरा आपको एक करिश्माई व्यक्तित्व के रूप में सबका चहेता बना देता है।

संक्षेप में, आपको सकारात्मक और स्वस्थ आदतों को विकसित करने की आवश्यकता है क्योंकि आप जितना इन आदतों पर काम कर लेंगे, आपको उतना ही फायदा होगा। लोग जिम में और ट्रेडमिलों पर घंटों बिताते हैं, लेकिन अगर प्रत्येक भोजन के ठीक बाद दस मिनट की सैर कर ली जाए, तो उससे मिलने वाले फायदों का मुकाबला हो ही नहीं सकता।

क्या इस विषय में आपका कोई प्रश्न हैं ? हमारे विशेषज्ञ से ज़रूर पूंछे।

थोड़ी दूर चलने से आपकी पाचन क्रिया बेहतर हो जाती है। वैसे भी, हम सब जानते हैं कि स्वस्थ मन एक स्वस्थ शरीर में रहता है।

अतीत की उदासी से अपने वर्तमान को बर्बाद मत करो; अगर आप अतीत से अनसुलझे मुद्दों के कारण अभी भी दुखी हैं, तो आपको एक कामयाब और खुशहाल ज़िन्दगी के लिए अपनी इस समस्या का हल ढूंढना बेहद जरूरी है।

Loading...