गर्मियों में योनि स्वच्छता और इससे जुड़ी गलतियों के बारे में जानकारी

399
READ BY
Photo Credit: pixabay
Read this article in English
यह लेख हिन्दी में पढ़ें।

महिलाओं के लिए योनि स्वच्छता बहुत महत्वपूर्ण है। चाहे आपको लगता है कि आप इसे ठीक से कर रहे हैं, परन्तु फिर भी आप अपनी ही किसी छोटी सी गलती के कारण, खासकर मासिक धर्म के समय में, योनि संक्रमण के शिकार हो जाते हैं। इस लेख में, हम गर्मियों में योनि स्वच्छता और इससे जुड़ी गलतियों के बारे में बात करेंगे, जो महिलाएं योनि स्वच्छता के समय अनजाने में कर बैठती हैं।

जरूर पढ़े –  6 ऐसी गलतियाँ जिनके कारण आपका वजन कम नहीं होता

1बार-बार धोना

ऐसा आमतौर पर देखा जाता है कि कुछ महिलाएं अपनी योनि कि स्वच्छता को लेकर ज्यादा ही सनकी होती हैं। इसी सनक की वजह से वह दिन में कई बार इसकी सफाई करती हैं। लेकिन, शायद आप नहीं जानते कि ऐसा करके आप योनि में पाए जाने वाले प्राकृतिक पी.एच को नुकसान पहुंचाते हैं, खासकर उस समय जब आप योनि स्वच्छता के लिए किसी  का उपयोग करते हैं।

सफाई करनी जरुरी है और ऐसा करने के लिए आपको दिन में कम-से-कम दो बार सही उत्पाद से योनि की सफाई करनी चाहिए ताकि त्वचा और अम्लता को बचाया जा सके।

2योनि से निरंतर निकलने वाला द्रव

योनि से निरंतर निकलने वाले द्रव की वजह से भी योनि की स्वच्छता और स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। इससे सूखापन या जलन जैसी समस्याएं होती हैं। इसलिए, आपको इस समस्या के बारे में बहुत सावधान रहना चाहिए और इसे अनदेखा नहीं करना चाहिए।

3धोने के बाद गीला न रहने दें

अंतरंग भागों (खासकर योनि) को धोने के बाद, उन्हें गिला न रहने दें। सफाई के बाद सबसे महत्वपूर्ण होता है, योनि को पूरी तरह से सुखाना। ध्यान रखें कि आर्द्रता/नमी की वजह से बैक्टीरिया के प्रसार को बढ़ावा मिलता है। सुखाते समय आपको इस बात का ध्यान रखना है कि आपको योनि को रगड़ना नहीं क्योंकि ऐसा करने से योनि की त्वचा को नुकसान पहुँच सकता है।

जरूर पढ़े – नोमोफोबिया – मोबाइल की लत से कैसे छुटकारा पाएं

4सैनिटरी पैड

मासिक धर्म के दौरान, सैनिटरी पैड को कम-से-कम 3 बार बदलना चाहिए। यदि आप आंतरिक पैड का उपयोग करते हैं, तो उन्हें 4 घंटे से अधिक समय तक न रखें।

यह पूरी तरह से आपकी पसंद है कि आप किस तरह के सैनिटरी पैड का उपयोग करना चाहते हैं; या पुन: प्रयोज्य वाले। यह दोनों पैड अपने-अपने फायदे और नुकसानों के साथ आते हैं और इनमें से किसी एक को चुनने का फैसला कई कारकों पर निर्भर करता है।

5संभोग के बाद मूत्राशय को खाली करना

प्रत्येक संभोग के बाद महिला को मूत्राशय खाली कर देना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से मूत्रमार्ग में मूत्र या बैक्टीरिया के प्रवेश की आशंकाएं ख़त्म हो जाती है। ऐसा करने के बाद योनि को गर्म पानी से धो लें।

जरूर पढ़े – महिला हस्तमैथुन से जुड़े 7 दिलचस्प तथ्य

इन गलतियों के अलावा, यदि आप योनि की स्वच्छता के बारे में वास्तविक रूप से गंभीर हैं, तो तंग कपड़े पहनना छोड़ दें। टाइट जीन्स झुंझलाहट और अप्रिय संक्रमणों जैसे कि कैंडिडा इत्यादि का कारण बन सकती हैं। ट्राउजर या स्कर्ट पहनना ज्यादा बढ़िया है।

इसके अलावा, अपने अंडरवियर की चुनाव के बारे में भी बहुत सावधान रहें। सिंथेटिक फाइबर से बने अंडरवियर न पहनें क्योंकि ये न केवल अंतरंग भागों तक हवा के आवागमन में परेशानियां पैदा करते हैं, बल्कि ऐसा वातावरण नहीं बनने देते, जो योनि पारिस्थिति के तंत्र को बदलता है। यह अंततः बैक्टीरिया और कवक संक्रमणों को बढ़ावा देते हैं। ऐसे में, कॉटन से बने अंडरवियर उत्तम होते हैं।

आशा है, हमने सफलतापूर्वक हमारे संदेश को अवगत कराया है और आपने भी योनि की स्वच्छता के महत्व के बारे में बहुत कुछ सीखा होगा। कृपया इस विषय पर अपने विचार या सुझाव सांझे करना न भूलें।

Loading...