ब्रेकअप होने के बाद आप को क्या नहीं करना है

1441
READ BY
asian heartbroken man holding bouquet of red roses feeling sad while seeing woman dating with another man. broken heart, disappointed in love concept
Photo Credit: Bigstockphoto
Read this article in English
यह लेख हिन्दी में पढ़ें।
Sukhdeep Singh

Sukhdeep Singh

Write Something To Right Something

Passionate about playing with words. Sukhdeep is a Post Graduate in Finance. Besides penning down ideas, he is an expert online marketing consultant and a speaker.

मुख्य आकर्षण

  1. गुस्सा निकाल दो।
  2. खुद पर आरोप मत लगाओ।
  3. नौटंकी मत करो।

किसी ने सच ही कहा है कि चाहे आदमी हो या औरत, ज़िन्दगी में एक बार हम सभी प्यार करते हैं। फिर चाहे वह एक तरफा ही क्यों न हो। कुछ लोगों का प्यार परवान चढ़ जाता है और कुछ लोगों का रिश्ता बनने से पहले ही टूट जाता है। ऐसी स्थिति में लोग, अलग-अलग तरीकों से अपने दर्द का इजहार करते हैं। कुछ लोग निखर जाते हैं और कुछ बिखर जाते हैं।

इस बात में कोई दो राय नहीं कि ब्रेकअप होने के बाद ज़िन्दगी (कुछ समय के लिए) बोझ लगने लगती है। ब्रेकअप के बाद मैंने ऐसे बहुत से लोग देखें हैं, जो गलत कदम उठा लेते हैं और आवेश में या तकलीफ में होने की वजह से कुछ ऐसा कर बैठते हैं, जो उन्हें नहीं करना चाहिए। जैसा हम सब जानते हैं कि कई बार हमें किसी छोटी सी गलती की बहुत भारी कीमत देनी पड़ती है। इसलिए, बेहतर यह होता है कि ऐसी कोई भी गलती न की जाए। इसी बात को ध्यान में रखते हुए, आज मैं इस लेख के माध्यम से आपको बताऊंगा कि ब्रेकअप होने के बाद आप को क्या नहीं करना है। छोटी-छोटी चीजों का ध्यान रखकर न केवल आपकी तकलीफ कम होगी, बल्कि आप बहुत ही जल्दी अपने जीवन में आगे भी बढ़ जाएंगे

गुस्सा निकाल दो

ऐसी स्थिति में लोग अक्सर शांत हो जाते हैं अर्थात वह दर्द में अंदर ही अंदर घुटते रहते हैं। उनको लगता है कि जिस इंसान से उन्होंने प्यार किया है, उसकी वजह से होने वाली तकलीफ को बिना कुछ कहे सहना भी प्यार है। लेकिन, मैं कहूंगा कि यह बकवास है। जरा सोचिये, अगर वह इंसान आपकी भावनाओं की कदर किए बिना आगे बढ़ गया है, तो आप क्यों उसकी चिंता में खून के आंसू पी रहे हैं?

जरूर पढ़े – 7 चीजें जो आप बार-बार माफी मांगने से खो देते हैं

मेरी मानिए, अपने अंदर के गुस्से और आक्रोश को निकाल दें अर्थात भावनाओं को अपने भीतर दबाकर न रखें। मैं जानता हूँ कि ब्रेकअप के बाद अपनी भावनाओं को व्यक्त करना आसान नहीं होता। लेकिन, अगर आप ऐसा नहीं करेंगे, तो आप जीवन में आगे नहीं बढ़ पाएंगे और हमेशा उसी इंसान का इंतज़ार करते रहेंगे। आपका दर्द में डूबे रहना, न तो चिकित्सकीय रूप से ठीक है और न ही मनोवैज्ञानिक रूप से। इसलिए बेहतर यही रहेगा कि आप अपनी भावनाओं को अपने किसी करीबी दोस्त से बाँट लें और अपना क्रोध निकाल दें।

खुद पर आरोप मत लगाओ!

ब्रेकअप के बाद, हर इंसान यही सोचता है कि गलती उसकी है। जब कोई इंसान आपको रिश्ते के बीच में छोड़ता है, तो वह हमेशा आपकी गलती निकालता है। ऐसी ही होता है, जब हम किसी को छोड़ते हैं। ऐसे में, यह सोचने के बजाय कि आप में कोई कमी थी, आपको यह सोचना चाहिए कि शायद छोड़ने वाला व्यक्ति आपके लायक ही नहीं था।

यकीन मानिए, इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि ब्रेकअप के पीछे गलती किसकी है। अगर गलती, आपके साथी की है, तो भी वह इसे स्वीकार नहीं करेगा। इसलिए खुद को दोष देना बंद कर दें

आपको यह नहीं भूलना चाहिए कि ब्रेकअप के लिए दो लोगों का होना जरूरी है। इसलिए, सिर्फ खुद को अपराधी मानना अक्लमंदी नहीं होती। जो भी हुआ, उसे भूलकर आगे बढ़ने के बारे में सोचें।

शक मत करो!

अगर ब्रेकअप का फैसला आपने लिया हो, तो भी खुद के फैसले पर शक न करें। फैसला लेने के बाद आपको अपने फैसले पर पुनः विचार करने की आवश्यकता महसूस नहीं होनी चाहिए अर्थात ब्रेकअप के बाद आपको यह अपने निर्णय को फिर से जांचना की कोई जरूरत नहीं है।

हमेशा याद रखें अगर आप चाहते हैं कि लोग आपके फैसले का सम्मान करें, तो सबसे पहले आपको खुद अपने फैसला का सम्मान करना सीखना होगा। खुद को यह समझाने की कोशिश करें कि जब तक वह रिश्ता चला, अच्छा चला। लेकिन, अब क्योंकि मैं इसे छोड़ने का मन बना चूका हूँ, तो मुझे अपने फैसले पर पक्का रहना है।

नौटंकी मत करो

मैंने ऐसा कई बार देखा है कि ब्रेकअप होने के बाद कुछ लोग पागलों की तरह व्यवहार करने लगते हैं। वह हर दूसरे व्यक्ति से कहने लगते हैं कि ब्रेकअप के बाद उनका जीवन नीरस हो गया है और उनके अंदर से जीने की तमन्ना खत्म हो चुकी है। वास्तव में, ऐसा कुछ नहीं होता और मैं यह बात अपने व्यक्तिगत अनुभव के साथ कह रहा हूं।

जरूर पढ़े – आकर्षण और प्यार के बीच क्या अंतर है

इस बात में कोई शक नहीं कि जब आपको एक चीज की आदत पड़ जाए, तो वह जल्दी नहीं जाती। एक आदमी जो सोता ही शराब पी कर हो, अगर एकदम उससे शराब छीन लेंगे, तो उसका तड़पना जायज है। ऐसा ही ब्रेकअप के मामले में होता है। लेकिन, अगर आप मन बना लें, तो कुछ भी मुश्किल नहीं है।

यकीन मानिए, एक आदत को बदलने के लिए दृढनिश्चय होना बहुत जरूरी है। जितना रिश्ता गहरा होता है, उतना ही समय ज्यादा लगता है। लेकिन, ऐसा बिलकुल नहीं है कि आप उस पीड़ा से बाहर आ ही नहीं पाते।

दोस्तों, किसी के साथ कोई नहीं मरता और ज़िन्दगी चलती रहती है। इसके साथ ही, मैं यह कहूंगा कि स्वार्थी न बनें क्योंकि आपके आसपास ऐसे बहुत से और लोग भी हो सकते हैं, जो आपको देखकर ही जीते हैं, उदाहरण के तौर पर आपके माता-पिता।

अपने आप को बच्चा ना बनाएं!

ब्रेकअप के बाद, अपना मूल्यांकन करना, बच्चों की तरह बर्ताव करने से कहीं अच्छा होता है। जैसा मैंने ऊपर कहा कि खुद को दोष देना और अपराधी समझना गलत है। लेकिन, खुद का सही मूल्यांकन करके ही रिश्ते की मौत के पीछे के कारणों को समझा जा सकता है।

ऐसा करना इसलिए जरूरी होता है, ताकि भविष्य में ऐसी गलती न हो। जितना आप खुद को समझेंगे, उतना आपके लिए ज़िन्दगी जीना और रिश्ते बनाना आसान हो जाएगा।

कॉल न करें!

चाहे कुछ भी हो जाए, ब्रेकअप होने के बाद अपने (पुराने) साथी को फोन मत करें। जितना आप उसे फोन करेंगे, आप उसे उतना ही अपने करीब पाएंगे अर्थात जितना भूलने की कोशिश करेंगे, वह उतना ही याद आएगा। ब्रेकअप के बाद आपको न कोई कॉल करनी है और न ही किसी किस्म का टेक्स्ट मैसेज।

किसी भी स्थिति में, आपको उसे वापिस बुलाने का प्रयास नहीं करना है। मैंने बहुत बार देखा है कि ब्रेकअप के कई महीने निकल जाने के बाद भी कुछ प्रेमी अपने पुराने साथी को वापिस बुलाने की कोशिश करते रहते हैं। वह गिड़गिड़ाते रहते हैं और किसी भी कीमत पर अपने साथी को अपने जीवन में वापिस आने के लिए मनाने की कोशिश करते रहते हैं।

जरूर पढ़े – अस्वीकृति से निपटना और ज़िन्दगी में आगे बढ़ना

ध्यान रखें, आपका ऐसा करना आपको ब्रेकअप के बाद आगे नहीं बढ़ने देगा। वैसे भी, जो आपको छोड़कर आगे चला गया है, उसके लौटने की कोई संभावना ही नहीं होती और अगर वापिस लौट भी आए, तो उसके आपके साथ ज्यादा देर रहने की कोई गारंटी नहीं होती। वह दुबारा फिर आपको छोड़कर जा सकता है।

इलसिए बेहतर है, अपने फोन को साइड पर रखकर, कुछ और करें। अपने फोन में उसके मैसेज और ईमेल ढूंढने से अच्छा है, जीवन में तरक्की के रास्ते ढूंढे जाएं और उस वजह को दूर किया जाए।

ब्रेकअप के बाद अकेले रहने की इच्छा होना, कोई नई बात नहीं है। अक्सर ब्रेकअप के बाद लोग खुद को चारदीवारी और जाने वाले की यादों में कैद कर लेते हैं। लेकिन, अगर ब्रेकअप के बाद आप जिंदगी में खुश रहना चाहते हैं, तो ऐसा न करें। अकेले रहने से आप डिप्रेशन का शिकार हो जाएंगे और कोई गलत कदम उठा लेंगे। इसलिए, बेहतर है कि आप अपने दोस्तों और परिवारजनों के साथ समय बिताएं।

क्या इस विषय में आपका कोई प्रश्न हैं ? हमारे विशेषज्ञ से ज़रूर पूंछे।

ब्रेकअप के बाद भी, अगर आपका साथी आपकी नज़रों के सामने है, तो भी उसे नीचा दिखाने की कोशिश न करें। मकसद उसे जिंदगी और दिमाग से निकालना है, फिर चाहे वह आपके पड़ोस में ही क्यों न हो। इसलिए, अपनी ख़ुशी या गमी उसके हाथों में न दें। न ही उसे कोई नुक्सान पहुंचाएं और न खुद को किसी तरह की मानसिक या शारीरिक तकलीफ दें।

हम सब प्यार करना और प्यार पाना चाहते हैं। लेकिन, इसे जंग न बनाएं और यह समझने की कोशिश करें कि कुछ लोगों का साथ, केवल कुछ ही पलों के लिए होता है।

Loading...