अच्छे पिता बने, आदर्श पिता नहीं

352
READ BY
Photo Credit: Pixabay
Read this article in English
यह लेख हिन्दी में पढ़ें।
Sukhdeep Singh

Sukhdeep Singh

Write Something To Right Something

Passionate about playing with words. Sukhdeep is a Post Graduate in Finance. Besides penning down ideas, he is an expert online marketing consultant and a speaker.

मुख्य आकर्षण

  1. बच्चों की रुचियां पहले रखें।
  2. उन्हें गले लगाएं।
  3. उनके साथ खेलें।
  4. उन्हें सुरक्षा का अहसास करवाएं।

क्या कभी आपने सोचा है कि पिता के इतनी सख्ती और सावधानी बरतने के बाद भी,  बच्चे गलत कदम उठा कर आपको समाज में शर्मिंदा क्यों कर देते हैं? मज़ेदार बात तो यह है कि अगर बच्चा होनहार निकले, तो सारा श्रेय पिता को चला जाता है, और अगर दुर्भाग्यवश नालायक निकले, तो गलती माँ की निकाली जाती है। 

क्या बच्चे को संस्कार देना सिर्फ माँ की जिम्मेदारी होती है, और पिता का फ़र्ज़ सिर्फ उसे आर्थिक तौर पर सहारा देना ही होता है? अच्छा पिता बनना इतना आसान नहीं होता। अगर आप हाल ही में पिता बने हैं या पिता बनने वाले हैं, तो मैं आपको बता दूँ कि एक बहुत बढ़ी चुनौती आपका इंतज़ार कर रही है। पुरुष हमेशा से ही यह समझते हैं कि इस भूमिका को निभाने के लिए महिलाएं प्राकृतिक तौर से सक्षम होती हैं अर्थात यह शुरू से उनकी ही जिम्मेदारी समझी जाती है। ऐसे में मैं कहना चाहूंगा कि एक अच्छा पिता बनने के लिए आपको भी उतनी ही ऊर्जा से अग्रसर होना पड़ेगा, जितनी ऊर्जा से महिलाएं होती हैं। इस लेख में मैं आपको कुछ ऐसी चीज़ों के बारे में बताना चाहूंगा जो अच्छा पिता बनने में आपकी काफी मदद करेंगी।

ज़रुर पढ़े – नोमोफोबिया – मोबाइल की लत से कैसे छुटकारा पाएं

1बच्चों के साथ समय बिताना सीखें

चूंकि आप एक आदमी हैं, तो बच्चों की नज़र में आप एक रोल मॉडल होते हैं। वह उम्मीद करते हैं कि आप उनके साथ खेलें, उन्हें चुटकुले सुनाएं या उनके साथ जोकरों की तरह हसीं मजाक करें। यहाँ, यह जरूरी नहीं है कि आप कौन सी खेल खेलते हैं, बल्कि ज्यादा महत्वपूर्ण यह है कि आप उसे कितना मज़ेदार बनाते हैं। यह सच है कि दिन भर ऑफिस में काम करने के बाद शरीर में ऊर्जा ख़त्म हो जाती है, लेकिन अपने बच्चों के साथ उनका बचपन जीने का मौका आपको ज़िन्दगी में एक ही बार मिलेगा।

2गुस्सा नियंत्रित करना सीखें

कई पुरुषों को अपनी भावनाओं को नियंत्रित करने में बहुत कठिनाइयां होती हैं, जो कि एक परिवार के लिए ठीक नहीं होता। बहुत से पुरुष अपनी भावनाओं को नियत्रित करना या उन्हें सही तरीके से व्यक्त करना नहीं जानते और अक्सर छोटी-छोटी बातों पर क्रोधित हो जाते हैं। उम्मीद है, आप यह जानते होंगे कि आपका कुछ पलों का गुस्सा, एक शिशु को शारीरिक और मानसिक रूप से किस हद तक नुकसान पहुंचा सकता है।

अगर आप एक अच्छा पिता बनना चाहते हैं, तो गुस्से को नियंत्रित करना सीखें। अपने छोटे से बच्चे पर या अपनी पत्नी पर गुस्सा निकालने से बेहतर है, आप उसे सही जगह पर निकालने का दम रखें। इससे न केवल आपका मन हल्का होगा, बल्कि हालात भी सुधरेंगे।

3सकारात्मक अनुशासन अपनाएं

बच्चों को अनुशासन सिखाना बहुत जरूरी होता है। लेकिन, ऐसा करते वक्त आपको उन्हें शारीरिक सजा या किसी प्रकार का दंड नहीं देना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से उनमें नकारात्मक व्यवहार जैसे डर, विद्रोह या घृणा के पनपने की पूरी आशंकाएं बन जाती हैं। इसके बजाय, दंडित करने के लिए उसे कोई काम दे दें, या उस पर किसी तरह की कोई जिम्मेदारी डाल दें। उदाहरण के लिए – अगर आपके बच्चे ने अपने सारे खिलौने इधर-उधर फेंके हुए हैं, तो उसे डांटने के बजाय, उसे ऊपर से कहें कि, “क्या आपको अपना घर गन्दा रखना अच्छा लगता है?’ ऐसा करने मात्र से, न केवल वह चीज़ों को इस्तेमाल के बाद सही जगह रखना सीख जाएगा, बल्कि सफाई की महत्तता को भी समझ पाएगा।

सजा देने से, या तो वह जिद्दी बन जाएगा या फिर आपसे नफरत करना शुरू कर देगा। परिणामस्वरूप, आप में और आपके बच्चे में एक जीवनकाल का अंतर आ जाएगा।

ज़रुर पढ़े –प्यार निभाना इतना मुश्किल क्यों हो गया है

4उनके लिए एक उदाहरण बनें

बच्चे अक्सर अपने पिता को सुपरहीरो की तरह देखते हैं। वे उनकी प्रशंसा करते हैं क्योंकि वे मजबूत, सुरक्षात्मक हैं और बच्चों के ख्याल में उनके पास उनसे जुडी हर समस्या का समाधान है। इसलिए, उनके सामने ऐसा कुछ भी न करें, जिसकी उम्मीद आप उनसे नहीं करते।

पिता के साथ निराशाजनक संबंध बच्चे को बहुत बुरी तरह प्रभावित करता है। आप एक पिता होने के नाते, अपने पिता का उदाहरण ले सकते हैं। याद कीजिए, आपके पिता द्वारा आपको किस तरह से सही-गलत के बारे में समझाया गया था। आप भी अपने पिता के नक़्श-ए-कदम पर चल सकते हैं और एक अच्छे पिता बन सकते हैं।

5एक अच्छे पिता की तरह बच्चों की बात गौर से सुनें

एक अच्छे पिता के रूप में, आपको अपने बच्चे की बात पर गौर करना चाहिए। बहुत सी बातें ऐसी होती हैं, जो बच्चे अपने पिता से ही सांझी करना चाहते हैं। ऐसे में, अगर आप उनकी बात पर ध्यान नहीं देंगे, तो उनका आपसे दूरी बनाना तय है। वास्तव में, पुरुष अपने बच्चों के साथ स्नेही होने से डरते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि यह स्नेह उन्हें भावुक बनाता है। भावुकता के विषय को वह माँ पर छोड़ना चाहते हैं।

याद रखें, पिता होने के नाते, आपका बच्चे के लिए स्नेही और भावुक होना बहुत जरूरी होता है। अगर आपका बच्चा आपसे कुछ कह रहा है, तो कुछ समय के लिए आप जो भी काम कर रहें हों, उसे छोड़ दें और उसकी बात पर गौर करें। ऐसा करने से, शिशु न केवल आपके और नज़दीक आएगा, बल्कि वह हर बात आपसे बिना झिझक के बांटेगा। यदि आप चाहते हैं कि आपका बच्चा आपकी बात सुने, तो आपको भी उसके समक्ष ऐसा उदाहरण रखना चाहिए।

6बच्चों पर दबाव न डालें

कई माता पिता हमेशा इस गलतफहमी में रहते हैं कि उनका बच्चा असमर्थ या कम सक्षम है। अपने बच्चे को लेकर आपकी इसी हीनभावना को बच्चा भी महसूस करता है। यही भावना आगे चलकर उसके आत्मविश्वास में कमी का कारण बनती है। इसके विपरीत, उत्साह, बधाई और प्रेरणा आपके बच्चे को और बेहतर करने के लिए प्रेरित करती है।

ज़रुर पढ़े –एकल परिवार और संयुक्त परिवार-फायदे और नुकसान

शायद आप नहीं जानते, पर बच्चे हमेशा ही अपने पिता को प्रभावित करना चाहते हैं और वे चाहते हैं कि उनके पिता उन पर गर्व करें। इसलिए, अगर आप दबाव डालते हैं या आप उनका लक्ष्य जरूरत से ज्यादा ऊँचा कर देते हैं, तो उनका आत्मसम्मान डगमगाना संभव है। इसलिए, अगर आप अच्छे पिता बनना चाहते हैं, तो दबाव डालने के बजाय उन्हें प्रोत्साहित करें। अगर उनके प्रदर्शन में कमी भी आती है, तो उन्हें बेहतर प्रदर्शन करने के लिए प्रोत्साहित करें। उनकों बताएं कि विफल होना, सफल होने की निशानी है और आपको गर्व है कि उन्होंने प्रतिस्पर्धा में अपनी ओर से बेहतर किया। साथ ही, उन्हें और बेहतर करने के लिए प्रोत्साहित करें।

7प्यार दिखाएँ और बच्चों की इच्छाओं के बारे में जानें

बच्चे को अपनी बाहों में लेने, चूमने, और यह कहने से कि आप उसे प्यार करते हैं, में शर्म महसूस न करें। चाहे आप एक बेटे के पिता हैं, या बेटी के, आपका उनको प्यार से गले लगाना, आप दोनों के रिश्ते को बहुत मजबूत करता है। बच्चे को अपनी प्यार भरी छवि महसूस करने दें।

अपने बच्चे की इच्छाओं और सपनों के बारे में आप जितना अधिक जान सकते हैं, जानने की कोशिश करें। उनसे पहले आपको यह समझना चाहिए कि वह जीवन में किस दिशा में आगे जा सकता है और उसे क्या करना पसंद है। अगर आप इसे समझ पाने में सक्षम नहीं हैं, तो आप अपनी पत्नी या बच्चे से पूछ सकते हैं।

अगर आपका भी कोई प्रश्न हो, तो हमारे विशेषज्ञ से पूछें।

असलियत में अच्छा पिता बनना या ऐसा होने का दिखावा करना, दोनों अलग-अलग है। यकीन मानिए, अगर आप वास्तव में अच्छे पिता नहीं हैं, तो आपके लिए ऐसा होने का दिखावा करना भी बहुत मुश्किल होगा। अतः, हर उस कमी को ठीक करें, जो आपको एक अच्छा पिता बनने से रोकती है क्योंकि आपकी यही कमियां आपके बच्चे के भविष्य के लिए खतरा बनने वाली हैं।

अपने बच्चों को एक अच्छा पिता बन कर दिखाएं क्योंकि आपका अच्छा पिता बनना उनकी सफलता की ओर आपका पहला कदम होगा।

Loading...