Photo Credit: Rawpixel.com / Bigstockphoto.com
What is the true path to success - Passion or Practice?
Read this article in English
यह लेख English में पढ़ें।

आखिर क्या हैं सफलता पाने का असली राज – जुनून या मेहनत?

आखिरकार, कड़ी मेहनत और पैशन ही प्रकर्तिक प्रतिभा पर मात करते हैं- पेट डॉक्टर

934
READ BY

मुख्य आकर्षण

  1. जुनून, प्रतिभा और अभ्यास ये तीन चीज़ों को मिलाकर सफलता पायी जा सकती हैं।
  2. कोई भी प्रतिभा या जुनून अभ्यास के बिना अधूरा हैं।
  3. आप जितना ज्यादा वक्त उस विषय पर देंगे, उतना ही आप उसमें माहिर हो जाएंगे।
  4. अभ्यास से प्रतिभा और जुनून बनता है।

हम अक्सर उन सफल हस्तियों के बारे में पढ़ते हैं जो हमेशा अपने काम के प्रति उत्साही होते हैं।

आखिर क्या हैं सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण, जुनून या मेहनत? यहाँ हर कोई शाहरुख खान की तरह बनना चाहता है। क्या आप जानते हैं, आखिर वो इतने सफल क्यों है? उनमें स्वाभाविक प्रतिभा है इसलिए? या फिर, वो इतने साल से एक्टिंग करते आये है इसलिए? या वो एक्टिंग के प्रति तीव्र जुनून दिखाते है इसलिए? पर सच तो यह हैं की सफलता इन तीन चीजो को मिश्रण हैं- जुनून, प्रतिभा और अभ्यास।

पर क्या इनमे से एक चीज़ दूसरे से ज्यादा ऊँची है? क्या हुआ अगर हमारे पास प्रतिभा या जुनून की कमी हो? यही सवाल कॉलेज स्टूडेंट और वर्कर्स को सताते हैं, जो अपना करियर निर्णय बनाने में लगे हुए हैं। कुछ लोगो का जुनून एक चीज के लिए होता है, पर वो किसी दूसरे काम में फंसे हुए है। तो कुछ लोग यह विचार करते हैं कि, वे किसी विशेष विषय में माहिर हैं और यही बात उन्हें अन्य आतंरिक प्रतिभाशाली व्यक्तियों से बेहतर बनाती हैं।

कॉलेज स्टूडेंट्स तो हमेशा अपने जुनून को सही करने की कोशिश करते हैं ताकि, वो सही मार्ग पर जाए जो उन्हें उनके प्रतिभा को निखार सके। समाज भी तो हमारे लिए एक ऐसा चित्र तैयार करता है जो यही कहता है कि, जुनून ही सफल और परिपूर्ण होने का एकमात्र मार्ग है।

क्या हैं सफलता का सही मार्ग?

लोगो को लगता हैं, की जहां आपका प्रतिभा होती है, वही आपका जुनून होता है पर यह हर वक्त जरूरी तो नहीं ना। शायद मैं गायन मैं अच्छा हूँ, पर मेरा जुनून गेमिंग के लिए हो सकता है। एक ऐसी व्यक्ति जो दो विचारो में फंसी हुई है जैसे की, या मैं सिंगिंग में अपना प्रतिभा आजमा लू, या फिर गेमिंग का जुनून फॉलो करू? आखिर क्या करू मैं? तो, हम इन दोनों चीज़ों में से किसी एक को चुनते हैं । बस आखिर में सिर्फ एक ही बात साबित हो जाती है कि, आप अन्य विषयो से बढ़कर उसी एक विषय/चीज़ के लिए कितनी कड़ी मेहनत करते है

अभ्यास आपको बेहतर बनाता है

लोग हमेशा अपना जुनून, प्रतिभा और प्राकृतिक कौशल ढूंढने की कोशिश करते हैं, और इन तीन मार्गो का इस्तेमाल करते हुए अपने करियर की तरफ देखते हैं। हां, शायद यह उपाय उन लोगो के लिए आसान होता है, जो अपने प्रतिभा के बारे मैं पहले से ही जानते है। लेकिन उन लोगो का क्यां, जिन्हें अपने प्रतिभा के बारे में पता नहीं, या फिर ऐसा भी हो सकता हैं न, की उनके पास बहुत सारे कौशल/प्रतिभा हो। यहाँ अभ्यास काम आता है| मशहूर लेखक कार्ल पोर्ट ने एक किताब लिखी हैं, “So Good They Can’t Ignore You”, उस किताब का कहना है कि, पूर्व-मौजूदा जुनून को पेशेवर लक्ष्य से मिलाने की कोशिश मत कीजिये। उससे बेहतर यह होगा कि, आप उस विषय में माहिर होने की कोशिश कीजिये, जुनून अपने आप आ जायेगा।

ALSO READ | My Experiments with My Successes & My Failures

जब आप किसी कार्य को ज्यादा वक्त देते है, तब आप उसी कार्य में पारंगत हो जाते है, भले ही आप उस कार्य के प्रति प्रतिभावान या उत्साही ना हो। जो लोग अपने प्रतिभा का सही वक्त पर इस्तेमाल नही करते, वो कभी सफल नहीं हो सकते। क्या आपको पता हैं कि, शाहरुख खान ने इकोनॉमिक्स किया हैं? फिर भी, वो नाटको में और अन्य थिएटर उपक्रमो में अपने स्कूल-कॉलेज के दिनों के दौरान हमेशा सहभाग लेते थे। उन्होंने अपनी प्रतिभा वही से हासिल की है।

क्या हैं सक्सेस का फॉर्म्युला

कार्ल पोर्ट कहते हैं कि, जब हम जिस विषय में माहिर हो जाते हैं, तभी उसी विषय के लिए जुनून निर्माण होता है। जब हम कोई चीज़ अच्छे तरीके से करने के लिए सीखते है, तब हम उस चीज़ के प्रति ज्यादा उत्साही हो जाते है। किसी भी विषय में पारंगत होने के लिए कड़ी मेहनत की जरूरी होती है। क्योंकि, आप जितना ज्यादा अभ्यास करेंगे, आप उतने ज्यादा बेहतर बन जाएंगे, आपको ज्यादा पहचान मिलेंगी, और आप ज्यादा सफल बनेंगे

ALSO READ | Why smart people fail in life?

हम अक्सर लेखक और संगीतकारोके के प्रतिभा (The Muse) बारे में सुनते हैं कि, कैसे वे अपनी इस प्रतिभा का इस्तेमाल करके महान कलाकृतिया निर्माण करते हैं। पर ये कलाकार पर्दे के पीछे की सच्चाई आपको कभी नहीं दिखाएंगे। एक अच्छा कलाकार होने के लिए आपको बहुत अभ्यास करना चाहिए। क्योंकि, अभ्यास ही आपके कमजोर विषय को  भी आसान बना देगा, ताकि आप भी कैनवास पर अच्छी कलाकृतिया एवं रचनाये बना सकते हैं

अगर आपके पास जुनून नही है, या आप उस जुनून को ढूंढ रहे है, तो मौजूदा समय में आपके हाथ जो कार्य है, बस उसी पर ज्यादा ध्यान दे। जब तक आप उसके कार्य में माहिर नहीं जाते, तब तक आप उस कार्य को ज्यादा समय दे। जैसे जैसे आप उस कार्य में माहिर हो जायेंगे, सफलता आपको जरूर मिलेंगी।

Shares